टोकनिज्म में मेरा विश्वास नहीं है – पीएम मोदी

Narendra Modi

हमारे मुंह से निकला हुआ शब्द सही जगह पर तीर की तरह जाना चाहिए। हमारी वाणी Impressive हो या न हो, लेकिन Inspiring जरूर होनी चाहिए

अगर हमारे देश और समाज में ऐसी युवा पीढ़ी तैयार होती है जो समाज के मुद्दों पर सही तरीके से सोचकर समाज को अपनी बात बताते हैं तो समाज का मन बनाने में बहुत बड़ी भूमिका अदा कर सकते हैं

16वीं लोकसभा में एवरेज प्रोडक्टिविटी 85 प्रतिशत रही। करीब 205 बिल पास हुए।

15वीं लोकसभा की तुलना में 16वीं लोकसभा ने 20 प्रतिशत ज्यादा काम किया।

लेकिन मैं इससे संतुष्ट नहीं हूं। अगर मोदी है तो ये 200 प्रतिशत होना चाहिए

एक शायर ने कहा था कि: उसे गुमाँ है कि मेरी उड़ान कुछ कम है मुझे यक़ीं है कि ये आसमां कुछ कम है।

युवा नए ideas से, freshness से भरा हुआ होता है। उस पर अतीत का बोझ नहीं होता, ऐसे में चुनौतियों और समस्याओं से निपटने में वो अधिक सक्षम होता है

लोग कहते हैं कि आजकल का युवा सवाल बहुत पूछता है, उसमें धैर्य नहीं है, उसे हर चीज में नयापन चाहिए।

लोग कुछ भी कहें लेकिन मैं मानता हूं कि युवा है तो ये सब जरूरी है। ये युवा के लक्षण हैं। वर्ना उम्र बड़ी हो और दिमाग न चलता हो, ऐसे लोग देखे हैं हमने

आज का युवा मल्टी-टास्किंग के लिए पहले से तैयार है, इसलिए कई काम एक साथ करता है।

वो एम्बिशन से भरा है, क्योंकि वो तेजी से आगे बढ़ना चाहता है, यही तो न्यू इंडिया का आधार है।

हमारी सरकार युवाओं में आत्मविश्वास जगाने के पूरे प्रयास कर रही है

टोकनिज्म में मेरा विश्वास नहीं है। एक लंबी सोच के साथ इंटरलिंक व्यवस्थाएं विकसित करना मेरी कार्यशैली का हिस्सा है।

मेरे एक बड़े सपने का छोटा हिस्सा आज यहां शुरू हुआ है। मैं चाहूंगा कि आगे आपकी भागीदारी से ये व्यवस्था विकसित हो

Author: ElectionAdda