पुलवामा आतंकी हमला और एयर स्ट्राइक के बाद बदली चुनावी रणनीति, जानिए क्या है पक्ष – विपक्ष का हाल

PM Modi During His Odisha Rally 24-Dec-2018-Crowd

पाकिस्तान प्रयोजित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के एयरस्ट्राइक के बाद देश के हालात बदल गए हैं| लोकसभा चुनाव की तारीख का एलान कभी भी हो सकता है| इस बदले हालात के कारण विपक्षी दल लोकसभा चुनाव की रणनीति को अंतिम रूप नहीं दे पा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी व भाजपा लगातार अपने पहले से तय कार्यक्रम जारी रखे हुए हैं| विपक्ष के सामने असमंजस की स्थिति उत्पन्न हो गयी है| कांग्रेस अपने कार्यक्रमों को लगातार टाल रही है| अन्य विपक्षी दलों से तालमेल भी सिरे नहीं चढ़ पा रहा है|

एक पूर्व सांसद का कहना है कि अब विपक्षी दलों के लिए राजनीतिक माहौल कठिन हो गया है| पुलवामा आतंकी हमले के बाद हुई एयरस्ट्राइक के बाद जो माहौल बना है उसमें विपक्ष के लिए चुनाव जीतने की चुनौती बढ़ गई है| केन्द्र में और कई राज्यों में सत्ता में होने के चलते भाजपा पहले से ही बढ़त बनाए हुए थी| इस घटना के बाद उसने और भी बढ़त बना ली है| अब अगले एक महीने में विपक्ष यदि एकजुट होकर पूरा दम लगा दे तब ही कुछ कर पाएगा |

कांग्रेस के कई नेताओं का कहना है कि एक तरफ प्रधानमंत्री मोदी व भाजपा हैं, जो लगातार अपने पहले से तय कार्यक्रम जारी रखे हुए हैं | दूसरी तरफ विपक्षी कांग्रेस है, जो लगातार अपने कार्यक्रम स्थगित कर रही है | यहां तक कि अहमदाबाद में पार्टी कार्यसमिति की बैठक भी टाल दी गयी | उस समय भारत-पाकिस्तान में बढ़े तनाव व जनभावनाओं के मद्देनजर इसे टालना जायज ठहराया जा सकता है, लेकिन इससे होने वाले नुकसान को भी तो देखना होगा | क्योंकि मोदी ने तो अपना कोई कार्यक्रम नहीं टाला, और वे उसे लगातार जारी रखे हुए हैं |

इन सब परिस्थितियों के बीच यह देखना होगा कि पक्ष और विपक्ष किस तरीके से अपनी चुनावी रणनीति बनाता है और किस तरीके से चुनावों में माहौल को अपने पक्ष में मोड़ता हैं |

Author: ElectionAdda